खतरनाक बूढ़े बलात्कारी

सेक्स की बेइन्तहा चाह ने कैसे देश के एक नोबल पुरस्कार जीनियस को कर दिया जीरो !
नई दिल्ली :दुनियाँ के जाने माने क्लाइमेट चेंज एक्सपर्ट डॉ. आर के पचौरी  यौन उत्पीड़न के भंवर में धंसते जा रहे हैं. दो कम उम्र महिलाओं के बाद अब एक तीसरी युवती ने पचौरी पर बुरी नज़र रखने के संगीन इलज़ाम लगाए हैं. मनोचिकित्सक मानते हैं कि डॉ पचौरी एक ‘पर्सनालिटी ट्रेट’ से ग्रसित हैं और ये मनोदशा उन्हें नोबल पुरूस्कार जीतने  के बाद और भी ले डूबी. नोबल हासिल करने के बाद उनकी हवस इतनी बढ़ी कि दफ्तर में हर दूसरी लड़की को उन्होंने हवस का शिकार बनाना चाहा.
20  से 28 साल की युवतियां को सेक्स का शिकार बनाने की कोशिश

विदेश में रहनी वाली 28 वर्षीय युवती का कहना है की उन्होंने पचौरी के साथ 2008  में चार महीने  काम किया. इस दौरान TERI के तत्कालीन अध्यक्ष यानि पचौरी ने कई बार उनके साथ छेड़छाड़ की. अपने लम्बे शिकायती पत्र में इस युवती ने बताया की अक्सर अकेला पाकर पचौरी उनके करीब आ जाते और कमर पर हाथ रख देते. कभी किस करते तो कभी अश्लील से मज़ाक. एक बार पचौरी ने इस युवती को दिल्ली के बाहर समर हाउस में कुछ दिन उनके साथ बिताने को कहा और ये संकेत दिए की उनकी पत्नी नहीं होगी.

इस युवती के वकीलों ने अदालत में पचौरी के खिलाफ मामला दर्ज़ किया है. सूत्रों के मुताबिक कई और लड़कियां भी डॉ पचौरी के हाथों सेक्सुअल हरासमेंट का शिकार हुई हैं…इनमे से कुछ बदनामी के डर से मामला दर्ज़ नहीं करना चाहती हैं.
नोबल पुरूस्कार के बाद  खुद को ‘कल्ट फिगर’ मानने लगे 75 साल के पचौरी

सूत्रों के मुताबिक 75 वर्षीय पचौरी के अध्यक्षता वाले यू एन पैनल को 2007 में जब नोबल पुरस्कार मिला तो ये क्लाइमेट एक्सपर्ट खुद को एक ‘कल्ट फिगर’ समझने लगा. दिल्ली में TERI के दफ्तर में ज्यादातर यौन घटनाओं के आरोप पचौरी पर नोबल मिलने के बाद लगे हैं. बुजुर्ग पुरुषों की बढ़ती हवश का पहला उदाहरण नहीं हैं पचौरी, 82 वर्षीय आशाराम यौन कुंठाओं के कारण अभी जोधपुर जेल में बंद हैं, रामपाल सहित अनेक बूढ़े संतो पर बलात्कार के मामले चल रहे हैं। आशाराम और पचौरी से भी ज्यादा घिनौने आरोप साईं मंदिर लोदी कालोनी के धर्माचार्य डॉ प्रकाश चंद्र रैलिया, डॉ किशोर चन्द नारंग और डॉ एन मोहन कालरा पर लगे हुए हैं। यह तीनों धर्माचार्य भी 70 से 80 साल के बूढ़े बलात्कारी हैं। डॉ रैलिया बगैरा ने तो एक दो चार नहीं सैकड़ों गरीब मजदूर बेटियों को अपनी हवश का शिकार बनाया है। यह खतरनाक बूढ़े गैंग बनाकर रेप करते थे, इनके खिलाफ वर्ष 2014 में थाना हौजखास में गैंग रेप का मुकदमा दर्ज हुआ था। ये बूढ़े बलात्कारी कितने बड़े शैतान हैं यह इनकी काली करतूतों को जानकर समझा जा सकता है। जो पुलिस अफसर इनका मेडिकल कराने गई इन्होंने उसे भी नहीं बख्शा, दक्षिणी दिल्ली जिला डिस्ट्रिक इन्वेस्टिगेशन यूनिट में तैनात सब इंस्पेक्टर को अपनी बातों में उलझाकर इन्होंने उसे भी प्रेग्नेंट कर दिया था। बेचारी महिला सब इन्स्पेक्टर शर्म की वजह से अपनी पीड़ा तक किसी को नहीं बता सकी, यह भेद जब खुला जब वह एक बच्चे की माँ बन गई और उसके पति ने बच्चे के हुलिया को देखकर संदेह होने परउसका डीएनए कराया। चूंकि दिल्ली पुलिस के बड़े अफसर इन धर्माचार्यों के भगत थे इसीलिए पूरे मामले को दबा दिया गया।

Leave a comment

XHTML: You can use these html tags: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>